Literature

View
Literature

हूँ मैं क्या जानना है अगर…

हूँ मैं क्या जानना है अगर… तो आसमा में उड़ते उन परिंदो से पूछो अक्सर उन्होंने संग अपने मुझे उड़ते देखा है | हूँ मैं क्या जानना है अगर… ...
javed sahab, javed akhtar photo, javed akhtar shayri Entertainment Literature

जावेद अख्तर साहब की चुनिंदा शायरी

प्रसिद्ध गीतकार /पटकथा लेखक जावेद अख़्तर का नाम देश का बहुत ही जाना-पहचाना नाम हैं। जावेद अख्तर शायर, फिल्मों के गीतकार और पटकथा लेखक तो हैं ही, सामाजिक कार्यकर्त्ता ...
रहीम , रहीम के दोहे , रहीमदास,रहीम दास के दोहे , रहीम के दोहे हिंदी में , रहीम के लोकप्रिय दोहे , हिंदी कवि , हिंदी के लोकप्रिय कवि , दोहे , हिंदी के दोहे , हिंदी दोहे rahim , rahim das, rahim ke dohe, rahim ke dohe hindi me , rahim ke hindi me dohe, rahim ke dohe, abdul rahim khankhana, rahimdas, hindi ke kavi, hindi kavi, hindi poet, Literature People

रहीम दास के १५ लोकप्रिय दोहे हिंदी अर्थ सहित

रहीम का पूरा नाम अब्दुल रहीम (अब्दुर्रहीम) ख़ानख़ाना था। आपका जन्म 17 दिसम्बर 1556 को लाहौर में हुआ। रहीम के पिता का नाम बैरम खान तथा माता का नाम ...
premchand, munshi premchand, प्रेमचंद Literature People

यह भी नशा, वह भी नशा | Yeh Bhi Nasha, Woh Bhi Nasha – Laghu Katha by Munshi Premchand

होली के दिन राय साहब पण्डित घसीटेलाल की बारहदरी में भंग छन रही थी कि सहसा मालूम हुआ, जिलाधीश मिस्टर बुल आ रहे हैं। बुल साहब बहुत ही मिलनसार ...
indian women, women cooking, punjabi women in kitchen Literature People

बंद दरवाजा | Band Darwaja – Laghu Katha by Munshi Premchand

सूरज क्षितिज की गोद से निकला, बच्चा पालने से। वही स्निग्धता, वही लाली, वही खुमार, वही रोशनी। मैं बरामदे में बैठा था। बच्चे ने दरवाजे से झांका। मैंने मुस्कुराकर ...