Literature

Advertisment

राष्ट्र का सेवक | Rashtra Ka Sewak – Laghu Katha by Munshi Premchand

राष्ट्र के सेवक ने कहा- देश की मुक्ति का एक ही उपाय है और वह है नीचों के साथ भाईचारे का सलूक, पतितों के...

बंद दरवाजा | Band Darwaja – Laghu Katha by Munshi Premchand

सूरज क्षितिज की गोद से निकला, बच्चा पालने से। वही स्निग्धता, वही लाली, वही खुमार, वही रोशनी। मैं बरामदे में बैठा था। बच्चे ने दरवाजे...