• Life
  • Values

तुलसीदास के लोकप्रिय दोहे हिंदी अर्थ सहित | Tulsidas ke Dohe in Hindi

Recent Articles




Tulsidas Ji Ke Dohe With Meaning in Hindi

श्रीरामचरितमानस के रचयिता गोस्वामी तुलसीदास जी हिंदी साहित्य के महान कवि थे | तुलसीदास जी के दोहे ज्ञान-सागर के समान हैं | इसलिए आज हम आप सभी प्रिय पाठकों के लिए तुलसीदास के दोहे अर्थ सहित लेकर उपस्थित हुए है, जो आपको बहुत ही पसंद आएंगे ऐसा हमें पूर्ण विश्वास है ।

आइये हम इन दोहों को अर्थ सहित पढ़ें और इनसे मिलने वाली सीख को अपने जीवन में उतारें |

दोहा :- “दया धर्म का मूल है पाप मूल अभिमान, तुलसी दया न छोडिये जब तक घट में प्राण |”

अर्थ :- तुलसीदास जी ने कहा की धर्म दया भावना से उत्पन्न होती और अभिमान तो केवल पाप को ही जन्म देता हैं, मनुष्य के शरीर में जब तक प्राण हैं तब तक दया भावना कभी नहीं छोड़नी चाहिए |

दोहा :- “सरनागत कहूँ जे तजहिं निज अनहित अनुमानि, ते नर पावॅर पापमय तिन्हहि बिलोकति हानि |”

अर्थ :- जो इन्सान अपने अहित का अनुमान करके शरण में आये हुए का त्याग कर देते हैं वे क्षुद्र और पापमय होते हैं. दरअसल, उनको देखना भी उचित नहीं होता |

दोहा :- “तुलसी मीठे बचन ते सुख उपजत चहुँ और, बसीकरण इक मंत्र हैं परिहरु बचन कठोर |”

अर्थ :- तुलसीदासजी कहते हैं की मीठे वचन सब और सुख फैलाते हैं. किसी को भी वश में करने का ये एक मंत्र होते हैं इसलिए मानव ने कठोर वचन छोड़कर मीठे बोलने का प्रयास करे |

दोहा :- “सचिव बैद गुरु तीनि जौं प्रिय बोलहिं भय आस, राज धर्म तन तीनि कर होइ बेगिहीं नास |”

अर्थ :- तुलसीदास जी कहते हैं की मंत्री वैद्य और गुरु, ये तीन यदि भय या लाभ की आशा से प्रिय बोलते हैं तो राज्य, शरीर एवं धर्म इन तीन का शीघ्र ही नाश हो जाता हैं |

दोहा :- रम नाम मनिदीप धरु जीह देहरीं द्वार तुलसी भीतर बाहेर हूँ जौं चाहसि उजिआर |”

अर्थ :- मनुष्य यदी तुम भीतर और बाहर दोनों ओर उजाला चाहते हो तो मुखीरूपी द्वार की जिभरुपी देहलीज पर राम-नामरूपी मणिदीप को रखो |

दोहा :- “मुखिया मुखु सो चाहिये खान पान कहूँ एक, पालड़ पोषइ सकल अंग तुलसी सहित बिबेक |”

अर्थ :- मुखिया मुख के समान होना चाहिए जो खाने पिने को तो अकेला हैं, लेकिन विवेकपूर्वक सब अंगो का पालन पोषण करता हैं |

दोहा :- “नामु राम को कलपतरु कलि कल्यान निवासु. जो सिमरत भयो भाँग ते तुलसी तुलसीदास |”

अर्थ :- राम का नाम कल्पतरु और कल्याण का निवास हैं, जिसको स्मरण करने से भाँग सा तुलसीदास भी तुलसी के समान पवित्र हो गया |

दोहा :- “सहज सुहृद गुर स्वामि सिख जो न करइ सिर मानी, सो पछिताई अघाइ उर अवसि होई हित हानि |”

अर्थ :- स्वाभाविक ही हित चाहने वाले गुरु और स्वामी की सिख को जो सिर चढ़ाकर नहीं मानता, वह हृदय में खूब पछताता है और उसके हित की हानि अवश्य होती हैं |

दोहे :- “बिना तेज के पुरुष की अवशि अवज्ञा होय, आगि बुझे ज्यों राख की आप छुवै सब कोय |”

अर्थ :- तेजहीन व्यक्ति की बात को कोई भी व्यक्ति महत्व नहीं देता है, उसकी आज्ञा का पालन कोई नहीं करता है. ठीक वैसे ही जैसे, जब राख की आग बुझ जाती हैं, तो उसे हर कोई छुने लगता है |

दोहा :-“तुलसी साथी विपत्ति के विद्या विनय विवेक, साहस सुकृति सुसत्यव्रत राम भरोसे एक |”

अर्थ :- तुलसीदासजी कहते हैं की मुश्किल वक्त में ये चीजें मनुष्य का साथ देती है, ज्ञान, विनम्रता पूर्वक व्यवहार, विवेक, साहस, अच्छे कर्म, आपका सत्य और भगवान का नाम |

रामचरितमानस के रचयिता गोस्वामी तुलसीदास अपने दोहे के लिए भी बहुप्रचलित है, Tulsidas ke Dohe बहुत ही उम्दा, ज्ञानवर्धक और जीवन को उत्कृष्ट बनानेवाले है ।

दोहा :- “सुर समर करनी करहीं कहि न जनावहिं आपु, विद्यमान रन पाइ रिपु कायर कथहिं प्रतापु |”

अर्थ :- शूरवीर तो युद्ध में शूरवीरता का कार्य करते हैं, कहकर अपने को नहीं जनाते. शत्रु को युद्ध में उपस्थित पा कर कायर ही अपने प्रताप की डिंग मारा करते हैं |

दोहा :- “तुलसी देखि सुबेषु भूलहिं मूढ़ न चतुर नर, सुंदर केकिहि पेखु बचन सुधा सम असन अहि |”

अर्थ :- तुलसीदास जी कहते हैं कि सुंदर वेष देखकर न केवल मुर्ख अपितु चतुर मनुष्य भी धोखा खा जाते है. सुंदर मोर को ही देख लो उसका वचन तो अमृत के समान हैं लेकिन आहार साप का हैं |

दोहा :- “अस्थि चर्म मय देह यह, ता सों ऐसी प्रीति ! नेक जो होती राम से, तो काहे भव-भीत |”

अर्थ :- तुलसीदास जी कहते हैं कि यह मेरा शरीर तो चमड़े से बना हुआ है जो की नश्वर है फिर भी इस चमड़ी के प्रति इतनी मोह, अगर मेरा ध्यान छोड़कर राम नाम में ध्यान लगाते तो आप भवसागर से पार हो जाते |

दोहा :- “काम क्रोध मद लोभ की जौ लौं मन में खान, तौ लौं पण्डित मूरखौं तुलसी एक समान |”

अर्थ :- जब तक किसी भी व्यक्ति के मन में कामवासना की भावना, गुस्सा, अंहकार, लालच से भरा रहता है तबतक ज्ञानी और मुर्ख व्यक्ति में कोई अंतर नही होता है दोनों एक ही समान के होते है |

दोहा :- “सुख हरसहिं जड़ दुख विलखाहीं, दोउ सम धीर धरहिं मन माहीं, धीरज धरहुं विवेक विचारी, छाड़ि सोच सकल हितकारी |”

अर्थ :- मुर्ख व्यक्ति दुःख के समय रोते बिलखते है सुख के समय अत्यधिक खुश हो जाते है जबकि धैर्यवान व्यक्ति दोनों ही समय में समान रहते है कठिन से कठिन समय में अपने धैर्य को नही खोते है और कठिनाई का डटकर मुकाबला करते है |

दोहा :- “करम प्रधान विस्व करि राखा, जो जस करई सो तस फलु चाखा |”

अर्थ :- ईश्वर ने इस संसार में कर्म को महत्ता दी है अर्थात जो जैसा कर्म करता है उसे वैसा ही फल भी भोगना पड़ेगा |

दोहा :- “तुलसी इस संसार में, भांति भांति के लोग, सबसे हस मिल बोलिए, नदी नाव संजोग |”

अर्थ :- तुलसी जी कहते है की इस संसार में तरह तरह के लोग है हमे सभी से प्यार के साथ मिलना जुलना चाहिए ठीक वैसे ही जैसे एक नौका नदी में प्यार के साथ सफर करते हुए दुसरे किनारे तक पहुच जाती है वैसे मनुष्य भी अपने इस सौम्य व्यवहार से भवसागर के उस पार अवश्य ही पहुच जायेगा |

दोहा :- “आगें कह मृदु वचन बनाई। पाछे अनहित मन कुटिलाई, जाकर चित अहिगत सम भाई, अस कुमित्र परिहरेहि भलाई |”

अर्थ :- तुलसी जी कहते है की ऐसे मित्र जो की आपके सामने बना बनाकर मीठा बोलता है और मन ही मन आपके लिए बुराई का भाव रखता है जिसका मन साँप के चाल के समान टेढ़ा हो ऐसे खराब मित्र का त्याग कर देने में ही भलाई है |

दोहा :- “तुलसी भरोसे राम के, निर्भय हो के सोए, अनहोनी होनी नही, होनी हो सो होए |”

अर्थ :- तुलसीदास जी कहते है की हमे भगवान आर भरोषा करते हुए बिना किसी डर के साथ निर्भय होकर रहना चाहिए और कुछ भी अनावश्यक नही होगा और अगर कुछ होना रहेगा तो वो होकर रहेगा इसलिए व्यर्थ चिंता किये बिना हमे ख़ुशी से जीवन व्यतीत करना चाहिए |

दोहा :- “काम क्रोध मद लोभ सब नाथ नरक के पन्थ, सब परिहरि रघुवीरहि भजहु भजहि जेहि संत |”

अर्थ :- तुलसी जी कहते है की काम, क्रोध, लालच सब नर्क के रास्ते है इसलिए हमे इनको छोडकर ईश्वर की प्रार्थना करनी चाहिए जैसा की संत लोग करते है |

तो दोस्तों यह थे महान कवि तुलसीदास के दोहे (Tulsidas ke Dohe in Hindi) और इसका सार हमने हमारी अपनी आसान Hindi भाषा में लिखा है, हमें आशा है की यह दोहे सार सहित आपको बेहद पसंद आयें होंगे और इन दोहों में से आपको अपने जीवन को बेहतर तरीके से जीने की सीख मिली होगी ।

अगर आपको Tulsidas के यह Dohe पसंद आये है तो कृपया इसे अपने पसंदीदा सोसिअल मीडिया पर शेयर जरूर करे और कमेंट्स के माध्यम से हमें आपका प्यार भेजें । दिल से शुक्रिया!

तुलसीदास के 300+ दोहे निम्नांकित 10 खंडों में पठनीय हैं।

तुलसीदास जी के दोहे कलियुग पे (Tulsidas ji ke dohe on Kaliyuga)

तुलसीदास जी के दोहे मित्रता पे (Tulsidas ji ke dohe on Friendship)

तुलसीदास जी के दोहे विवेक पे (Tulsidas ji ke dohe on Wisdom)

तुलसीदास जी के दोहे आत्म अनुभव पे (Tulsidas ji ke dohe on Self Experience)

तुलसीदास जी के दोहे संगति पे (Tulsidas ji ke dohe on Company)

तुलसीदास जी के दोहे अहंकार पे (Tulsidas ji ke dohe on Ego)

तुलसीदास जी के दोहे सुमिरण पे (Tulsidas ji ke dohe on Remembrance)

तुलसीदास जी के दोहे संतजन पे (Tulsidas ji ke dohe on Saints)

तुलसीदास जी के दोहे गुरू पे (Tulsidas ji ke dohe on Teacher)

तुलसीदास जी के दोहे भक्ति पे (Tulsidas ji ke dohe on Devotion)








16 Natural & Home Remedies to Prevent dandruff...

Dandruff is a condition in which dead skin cells accumulate and fall off from the scalp,  As skin cells die, a small amount of...

10 Life Lesson From “MC Mary Kom” |...

Mangte Chungneijang Mary Kom (born 1 March 1983), also known as MC Mary Kom, or simply Mary Kom, is an Indian boxer. She is a...

13 Proven & Surprising Health Benifits of Ginger...

Ginger is one of the most ancient spices in worldwide cuisine. It has become well-known for its various health benefits, which include its ability...

USA denied at the death, Algeria cruise |...

The U.S. came within seconds of booking their place in the round of 16 of the 2014 World Cup after Varela scored just before...

Fakkar – Ravinder Dhatt || Official full song...

Presenting latest Punjabi song Fakkar by Ravinder Dhatt. Enjoy and stay connected for latest songs. https://www.youtube.com/watch?v=vrERClW7w-0 Singer - Ravinder Dhatt Music - Bobby Jajewala Video - Satnam Attwal Edit -...

Story of Japanese Muslims | Islam in Japan

In 1970, only two mosques existed in the country, but now more than 200 offer sanctuary to Japan's Muslims. The history of Islam in Japan...