तुलसीदास के दोहे – मित्रता पर (हिंदी अर्थ सहित) | Tulsidas Ke Dohe In Hindi On Friendship

Related Articles

तुलसीदास के मित्रता पर दोहे | Tulsidas Ke Dohe (दोस्ती / Friendship)

दोहा:

जे न मित्र दुख होहिं दुखारी। तिन्हहि विलोकत पातक भारी।
निज दुख गिरि सम रज करि जाना। मित्रक दुख रज मेरू समाना।

अर्थ:

जो मित्र के दुख से दुखी नहीं होते उन्हें देखने से भी भारी पाप लगता है।
अपने पहाड़ समान दुख को धूल के बराबर और मित्र के साधारण धूल समान दुख को सुमेरू पर्वत के समान जानना चाहिये।


दोहा:

देत लेत मन संक न धरई। बल अनुमान सदा हित करई।
विपति काल कर सतगुन नेहा। श्रुति कह संत मित्र गुन एहा।

अर्थ:

मित्र लेन देन करने में शंका न करे।अपनी शक्ति अनुसार सदा मित्र की भलाई करे।
बेद के मुताबिक संकट के समय वह सौ गुणा स्नेह प्रेम करता है।अच्छे मित्र का यही गुण है।


दोहा:

वक सठ नृप कृपन कुमारी। कपटी मित्र सूल सम चारी।
सखा सोच त्यागहुॅ मोरें। सब बिधि घटब काज मैं तोरे।

अर्थ:

मूर्ख सेवक कंजूस राजा कुलटा स्त्री एवं कपटी मित्र सब शूल समान कश्ट
देने बाले होते हैं।मित्र पर सब चिन्ता छोड़ देने परभी वह सब प्रकार से काम आते हैं।


दोहा:

जिन्ह कें अति मति सहज न आई। ते सठ कत हठि करत मिताई।
कुपथ निवारि सुपंथ चलावा । गुन प्रगटै अबगुनन्हि दुरावा।

अर्थ:

जिनके स्वभाव में इस प्रकार की बुद्धि न हो वे मूर्ख केवल हठ करके हीं किसी से मित्रता करते हैं।
सच्चा मित्र गलत रास्ते पर जाने से रोक कर अच्छे रास्ते पर चलाते हैं और अवगुण छिपाकर केवल गुणों को प्रकट करते हैं।


दोहा:

आगें कह मृदु वचन बनाई। पाछे अनहित मन कुटिलाई।
जाकर चित अहिगत सम भाई। अस कुमित्र परिहरेहि भलाई।

अर्थ:

जो सामने बना बना कर मीठा बोलता है और पीछे मन में बुराई रखता है तथा
जिसका मन साॅप की चाल समान टेढा है ऐसे खराब मित्र को त्यागने में हीं भलाई है।


दोहा:

सत्रु मित्र सुख दुख जग माहीं। माया कृत परमारथ नाहीं।

अर्थ:

इस संसार में सभी शत्रु और मित्र तथा सुख और दुख माया झूठे हैं और वस्तुतः वे सब बिलकुल नहीं हैं।


दोहा:

सुर नर मुनि सब कै यह रीती। स्वारथ लागि करहिं सब प्रीती।

अर्थ:

देवता आदमी मुनि सबकी यही रीति है कि सब अपने स्वार्थपूर्ति हेतु हीं प्रेम करते हैं।


Suggested read:

  1. कबीर दास के लोकप्रिय दोहे हिंदी अर्थ सहित
  2. तुलसीदास के लोकप्रिय दोहे हिंदी अर्थ सहित
  3. कबीर दास के सर्वाधिक प्रसिद्ध दोहे (गुरु की महिमा में)
  4. रहीम दास के लोकप्रिय दोहे हिंदी अर्थ सहित


10 Must Visit Place in INDIA | Breathtakingly...

This is the list of 10 of the most beautiful and must visit places of India. India is a beautiful country that is truly...

Want to boost your employability? Here’s how online...

Education is the key to success, and success is primarily evaluated with the type of employment you can secure in future. With...

Tightest Parallel Parking World Record Broken by China’s...

China's Han Yue power drifts MINI between two cars, leaving a gap of just 3.15 inches to set a new mark for tightest parking...

How Small Acts Of This School Going Kid...

HUL conducted a social experiment at Khao Galli, Mumbai to find out how kids can influence to bring in change Littering is the most haunting...

Sosenka Can Turn Herself Into Literally Anyone |...

Justina Sosnowska lives in Poland, in a small town near Wroclaw. She works as a landscape designer. Four years ago she had a hobby....

IPLization of FIFA World Cup : Fools from...

How much more are we Indians going to suffer? Not everytime, not everywhere. The Football World Cup used to be the most exciting sporting event...