तुलसीदास के दोहे – मित्रता पर (हिंदी अर्थ सहित) | Tulsidas Ke Dohe In Hindi On Friendship

Related Articles

तुलसीदास के मित्रता पर दोहे | Tulsidas Ke Dohe (दोस्ती / Friendship)

दोहा:

जे न मित्र दुख होहिं दुखारी। तिन्हहि विलोकत पातक भारी।
निज दुख गिरि सम रज करि जाना। मित्रक दुख रज मेरू समाना।

अर्थ:

जो मित्र के दुख से दुखी नहीं होते उन्हें देखने से भी भारी पाप लगता है।
अपने पहाड़ समान दुख को धूल के बराबर और मित्र के साधारण धूल समान दुख को सुमेरू पर्वत के समान जानना चाहिये।


दोहा:

देत लेत मन संक न धरई। बल अनुमान सदा हित करई।
विपति काल कर सतगुन नेहा। श्रुति कह संत मित्र गुन एहा।

अर्थ:

मित्र लेन देन करने में शंका न करे।अपनी शक्ति अनुसार सदा मित्र की भलाई करे।
बेद के मुताबिक संकट के समय वह सौ गुणा स्नेह प्रेम करता है।अच्छे मित्र का यही गुण है।


दोहा:

वक सठ नृप कृपन कुमारी। कपटी मित्र सूल सम चारी।
सखा सोच त्यागहुॅ मोरें। सब बिधि घटब काज मैं तोरे।

अर्थ:

मूर्ख सेवक कंजूस राजा कुलटा स्त्री एवं कपटी मित्र सब शूल समान कश्ट
देने बाले होते हैं।मित्र पर सब चिन्ता छोड़ देने परभी वह सब प्रकार से काम आते हैं।


दोहा:

जिन्ह कें अति मति सहज न आई। ते सठ कत हठि करत मिताई।
कुपथ निवारि सुपंथ चलावा । गुन प्रगटै अबगुनन्हि दुरावा।

अर्थ:

जिनके स्वभाव में इस प्रकार की बुद्धि न हो वे मूर्ख केवल हठ करके हीं किसी से मित्रता करते हैं।
सच्चा मित्र गलत रास्ते पर जाने से रोक कर अच्छे रास्ते पर चलाते हैं और अवगुण छिपाकर केवल गुणों को प्रकट करते हैं।


दोहा:

आगें कह मृदु वचन बनाई। पाछे अनहित मन कुटिलाई।
जाकर चित अहिगत सम भाई। अस कुमित्र परिहरेहि भलाई।

अर्थ:

जो सामने बना बना कर मीठा बोलता है और पीछे मन में बुराई रखता है तथा
जिसका मन साॅप की चाल समान टेढा है ऐसे खराब मित्र को त्यागने में हीं भलाई है।


दोहा:

सत्रु मित्र सुख दुख जग माहीं। माया कृत परमारथ नाहीं।

अर्थ:

इस संसार में सभी शत्रु और मित्र तथा सुख और दुख माया झूठे हैं और वस्तुतः वे सब बिलकुल नहीं हैं।


दोहा:

सुर नर मुनि सब कै यह रीती। स्वारथ लागि करहिं सब प्रीती।

अर्थ:

देवता आदमी मुनि सबकी यही रीति है कि सब अपने स्वार्थपूर्ति हेतु हीं प्रेम करते हैं।


Suggested read:

  1. कबीर दास के लोकप्रिय दोहे हिंदी अर्थ सहित
  2. तुलसीदास के लोकप्रिय दोहे हिंदी अर्थ सहित
  3. कबीर दास के सर्वाधिक प्रसिद्ध दोहे (गुरु की महिमा में)
  4. रहीम दास के लोकप्रिय दोहे हिंदी अर्थ सहित


Rehman Malik Thrown Off PIA Fight By Angry...

Pakistani dudes show some serious guts, probably stemmed from the highly prevalent anger we all have buried in us! Janta Janaardan! Angry passengers on board...

16 Natural & Home Remedies to Prevent dandruff...

Dandruff is a condition in which dead skin cells accumulate and fall off from the scalp,  As skin cells die, a small amount of...

11 Dating Mistakes Men Make That Push Women...

These mistakes that men make in relationships are not made consciously. Most often, there is something innate about your behavior or body...

15 Rare & Old Photo’s of Las Vegas...

The 1950s saw the opening of the Moulin Rouge, the first racially integrated casino-hotel in Las Vegas.  In 1951, nuclear weapons testing began at the...

The Mysterious “Easter Island” AKA “Rapa Nui” Of...

Although not particularly cheap, Rapa Nui (Easter Island) is one of the best places to visit before you die, especially if you love to...

Tipu Sultan’s Tiger – Ancient Mechanical Wonder

Tipu Sultan, was the de facto ruler of the Kingdom of Mysore in India, and was commonly known as the Tiger of Mysore and...